+91-80-2658 8204 / +91 98860 60037

 फायदे

सविनय-विनती

 

मैने कई लोगों को पछताते हुए देखा है सिर्फ़ इसी वजह से कि हकलाहट के इलाज मे उन्होने बहुत देर कर दी है। उन्होने अपने हकलाहट के इलाज को महत्व नही दिया| आप भी उनके गलती को न दोहराएँ और तुरंत हमारे कोर्स मे भर्ति हों। कृप्या अपने अनमोल समय व कीमती मौकों को बर्बाद न करें| इस सोच मे खुद को न चकराएँ कि हकलाहट ठीक हो सकती है या नही। आपको कई जगह से धोखा मिला होगा पर चिन्ता न करें। एक आखरी बार विश्वास करके देखें और यह कोर्स करें| मै आपको सिर्फ 2 सप्ताह मे धाराप्रवाह वक्ता बना सकता हूँ। इस सेन्टर मे से जो भी ठीक होकर जाता है यही अफसोस जताता है कि काश! यहाँ पहले आए होते। 

इसीलिए अब और देर न करे और अभी यह कोर्स करे।


हम पर विश्वास क्यों करें?

  • मै यह सेन्टर पिछले 25 सालों से चला रहा हूँ। कोई भी यह आसानी से समझ सकता है कि असरदार न होते हुए कोई भी संस्था इतने सालों तक कैसे चल सकता है।
  • सारे अभ्यास मेरे वर्षों के अनुसंधान व विशेषज्ञ अनुभव से रचे गए है।
  • 25 सालों की अवधि मे मैने कई 23,000 लोगों की हकलाहट 12 दिनों मे आसानी से ठीक कर चुका हूँ और अब यह मेरे लिए बाएँ हाथ का खेल है।
  • सन 1990 के मार्च महीने मे मैने अपने चार्टर्ड अकाउंटन्ट के लाभकारी व्यवसाय को त्याग कर हकलाहट-ग्रस्त लोगों के मदद के लिए समर्पित कर दिया है। हर कठिनाई के बावजूद मैने डटे रहने की ठान ली है।
  • मेरे हकलाहट के अनुभव से मै बहतर समझ सकता हूँ कि हकलाहट की वजह से आप पर क्या गुज़र रही है और आप कैसा महसूस करते है। इसीलिए उसके समाधान मुझसे अच्छा कौन जान सकता है।
  • दो प्रैक्टिस मेटीरियल बुक (हर एक पुस्तक 100 पन्नों से भी ज़्यादा है), तीन सी.डी. और पार्थ बागची द्वारा लिखे किताब का हिन्दी अनुवादन "हकलाहट का निश्चित उपचार" (200 पन्नों से भी ज़्यादा है), जो भारत के इतिहास मे हकलाहट के उपचार पर सबसे पहला एवं एक मात्र किताब है| इस से मेरे इस विषय पर विशेषज्ञ ज्ञान व अनुभव का इससे बडा प्रमाण और क्या हो सकता है।
  • भारत मे मेरे अकेले की यह कोशिश रही है कि विज्ञापन के ज़रिये मै लोगों तक हकलाहट व उसके उपचार के बारे मे सही जानकारी पहुँचाता रहूँ।
  • सारे मशहूर अखबारों व टी.वी. चैनलों मे मेरे और मेरे सेन्टर के बारे मे प्रकाशित हुआ है।
  • इसके अलावा मुझे इस नेक काम के लिए 7 राष्ट्रीय पुरस्कार और 1 अंतर-राष्ट्रीय पुरस्कार से सराहा गया है|
  • भगवान के मार्ग-दर्शन से मै इस क्षेत्र मे आया हूँ और इसी लिए मै लोगों की मदद करने के लिए भगवान के आगे उत्तरदायी हूँ।
  • मेरा यह मानना है कि अच्छे को भी और बहतर बनाया जा सकता है। इसीलिए मै समय समय पर अपने तकनीकों व अभ्यासों को बेहतर बनाने की कोशिश करता हूँ ताकि आपको जल्द से जल्द सुधार मिल सकें।
  • न सिर्फ़ मैने अपने जीवन को हकलाहट के उपचार करने के लिए समर्पित कर दिया है पर मेरा पूरा परिवार भी मेरे इस अभियान मे मेरे साथ है। मेरी पत्नि श्रीमति मित्रानी बागची के सक्रिय सहयोग व निष्ठा से ही मेरे लिए यहाँ तक आ पाना संभव हुआ है। मेरी बेटी एक मनोवैज्ञानिक है और मेरा बेटा सॉफ़्टवेयर इंजीनियर है। हम सब मिलकर एक अनोखा टीम बनाते है ताकि हम हकलाहट-ग्रस्त लोगों के भलाई के लिए इस नेक काम मे आगे बढते जाए।
  • मेरे पास दुनिया भर से 500 से भी ज़्यादा सर्वश्रेष्ठ किताबें है ताकि मै आप तक सिर्फ़ जाँची-परखी तत्व और अमूल्य ज्ञान पहुँचा सकूँ।
  • ज़्यादा से ज़्यादा लोगों की मदद करने के लिए हम हमारे कोर्स मेटीरियल को दूसरे भाषाओं मे अनुवाद करने की कोशिश कर रहे है।
  • हमारे कोर्स के तकनीक व अभ्यास इस प्रकार है कि आपकी सुधार स्थाई हो और हकलाहट लौटकर न आए।
  • हमारे इस अभियान मे हमे विश्वास देती है उन हज़ारों लोगों की मुस्कान व उनके परिवार वालों का आशीर्वाद जो हमारी वजह से एक खुशहाल हकलाहट-मुक्त ज़िन्दगी जी रहे है।


बच्चों के कोर्स के फ़ायदे

  • कम उमर मे ठीक हो जाने से आगे जाकर हकलाहट व उससे संबंधित परेशानियाँ नही होगी।
  • आपके बच्चे को हकलाहट की सचेतनता आने से पहले ही उस समस्या को जड से मिटा दें।
  • वह अच्छे दोस्त बना पाएगा, दूसरे बच्चों के साथ बात कर पाएगा, उनके साथ खेल पाएगा और उनके साथ मज़ा कर पाएगा।
  • बिना हकलाहट के, आपका बच्चा और भी मिलनसार और फुर्तीला बनेगा।
  • हकलाहट से राहत पाकर परिवारवालें भी चैन की साँस ले पाएँगे।
  • हकलाने से आनीवाली शर्म और नकारात्मक सोच शुरू होने से पहले ही सही हो जाएगी।
  • मज़ाक उडाए जाने से और दूसरों के उपेक्षा से आपका बच्चा अंदर से टूट सकता है पर हकलाहट से ठीक होने से आप यह होने से रोक सकते है।


स्कूल मे पढने वाले बच्चों के लिए फ़ायदे

  • स्कूल मे पढाई और अन्य कार्यक्रमों मे आपका बच्चा बेझिझक भाग ले सकता है।
  • अपने सारे प्रतिभा और गुणों का भरपूर इस्तेमाल करके आपका बच्चा अपने सारे सपनों को पूरा कर पाएगा।
  • आपका बच्चा हर क्षेत्र मे अपने उदासी और निराशा से उभर कर सकारात्मक व आशावादी बन पाएगा।
  • अपने बच्चे की प्रभावशाली व्यक्तित्व देखकर आप भी फूला नही समा पाएँगे और दूसरे प्रशंसा करते नही थकेंगे।
  • विश्वास और पढाई के बहतर समझ से आपका बच्चा और ज़्यादा अंक लाकर बहतर परिणाम ला पाएगा।
  • मौखिक परीक्षा अब उसके लिए आतंक नही होगी।
  • अच्छे दोस्त बनाकर वह अपना बचपन खुशी से बिता पाएगा।
  • वह अंग्रेज़ी मे धाराप्रवाह हो जाएगा।


कॉलेज मे पढने वालों के लिए फ़ायदे

  • आप अपने सहपाठियों व शिक्षकों से अच्छी तरह मेल-जोल बढा सकते है।
  • एक अविश्वसनीय व्यक्तित्व से आप सारे दुनिया को मोह सकते है।
  • आपके बोलने के स्टाइल मे जो भी खामियाँ है उनको खूबियों मे बदल दें।
  • आपको अपने नकारात्मक चिन्ताओं, गुस्से, मायूसी, उदासी, हताशा, निराशा, हतोत्साह, नाराज़गी, इत्यादि पर काबू पा सकेंगे।
  • फ़र्राटेदार अंग्रेज़ी बोलकर आप सफलता की राह मे एक पडाव आगे रह सकते है।
  • अपने आत्मविश्वास और खुद पर यकीन से आप हर मंज़िल को पा सकते है।
  • आप अपने मन के विचारों को आसानी से व्यक्त कर पाएँगे।
  • विभिन्न प्रतियोगिता व कार्यक्रम मे भाग ले सकते है।
  • आपको भाषण, सेमिनार, स्पीच, प्रेसेन्टेशन, ग्रूप डिस्कशन, इत्यादी देने मे कोई परेशानी नही होगी।


नौकरी की खोज करने वाले लोगों के लिए फ़ायदे

इन्टरव्यू ज़्यादातर लोगों के लिए डर का विषय है और अगर आपको हकलाहट होती हो तो आपके लिए वह किसी आतंक से कम नही है। जिन लोगों को हकलाहट होती है, उन्हे इन्टरव्यू के कॉल के बारे मे पता चलते ही वे नकारात्मक सोचने लगते है जिससे उनकी हकलाहट और भी बढ जाती है। परिणामतः उन्हे नौकरी नही मिलती है और इसी चिन्ता से उनकी हकलाहट बेकाबू हो जाती है। ऎसे मे हम इस कोर्स से आपकी मदद कर सकते है।

  • हमारे रेगुलर कोर्स से आप अपने हकलाहट को ठीक कर सकते है और एक प्रशंसनीय स्टाइल मे बोलकर लोगों का मन मोह सकते है।
  • इस कोर्स से आपके व्यक्तित्व, वार्तालाप करने की कौशल, आत्म-विश्वास, अंग्रेज़ी मे धाराप्रवाहता, सकारात्मक सोच, आकांक्षा, आशावादिता, आदि मे भी वृद्धि होगी।
  • इसके अलावा, आपको अपने नकारात्मक चिन्ताओं, गुस्से, मायूसी, उदासी, हताशा, निराशा, हतोत्साह, नाराज़गी, इत्यादि पर काबू पा कर उनको सही दिशा मे प्रचालित करेंगे।
  • आपके अभ्यास के लिए एक इन्टरव्यू जैसा माहौल की व्यवस्था किया जा सकता है जिससे आपको असल इन्टरव्यू मे आसानी होगी।
  • सेन्टर मे ग्रूप डिस्कशन मे भाग लेकर आप इन्टरव्यू के लिए भी तैयार हो सकते है।
  • आज कल टेलीफ़ोन पर इन्टरव्यू आम बात है। इस लिए टेलीफ़ोन पर बात करने की अभ्यास से आप इस मे भी सफल होंगे।
  • प्रैक्टिस मेटीरियल बुक-2 मे इन्टरव्यू के बारे मे बहुत सारे मददगार सलाह व टिप्पनी भी दी गई है।
  • आपके साक्षात्कार मे आपका सहायक व हमसफ़र बनने श्री पार्थ बागची द्वारा लिखा गया किताब "इन्टरव्यूस नो मोर अ हर्डल" हमारे यहा उपलब्ध है। यह 300 पन्नों का किताब इन्टरव्यू के विषय पर बेशक सबसे कारगर व वास्तविक किताब है।

हमारे इस कोर्स से कई लोगों को अपने मनचाहा नौकरी व उत्तम वेतन हासिल हुई है तो आप क्यों पीछे रह जाएँगे। अनगिनत मौकों को और न गवाएँ, तुरंत हमारे कोर्स का लाभ उठाएँ और अपने सफलता की कहानी खुद लिखें।


काम करनेवाले लोगों के लिए फ़ायदे

  • अपने इतने सालों की मायूसी, हीन भावना, शर्मिन्दगी, हतोत्साह, इत्यादि को पीछे छोडकर, आप एक नए संभावनामय जीवन की ओर पूरी फ़ुर्ती से कदम बढा सकते है।
  • आप अपने कम्पनी मे बहतर योगदान दे कर प्रशंसा व अन्य उपहार भी पा सकते है।
  • आप अपने अनोखे विचार व सुझाव आसानी से प्रकट कर सकते है।
  • आप मीटिन्ग मे रिपोर्ट पढना या प्रेसेन्टेशन देना आपके लिए बाएं हाथ का खेल हो जाएगा।
  • आप अपने और आपके कम्पनी का उत्पादन बढा सकते है।
  • आप जिस क्षेत्र मे चाहे उसी व्यवसाय मे काम कर सकते है।
  • हकलाहट के वजह से आपको नौकरी से निकाले जाने का डर अब और नही सताएगा।
  • अब आपके लिए किसी भी पद के लिए इंटर्व्यू डरावना नही रहेगा।
  • अब आपको प्रोमोशन पाने से और ऊँचे पद पर होने से कोई भी रोक नही सकती है।
  • अब आप अपने योग्यता के अनुसार अपनी नौकरी चुन सकते है।
  • अपने नए आत्मविश्वासी व्यक्तित्व से आप हर सफलता को हासिल कर पाएँगे।

इस कोर्स से आपकी ज़िन्दगी बदलने वाली है। तैयार हो जाइए एक सफल और खुशाल ज़िन्दगी के लिए जिस मे आप अपने सारे सपने पूरा कर सकते है।


 

स्टैमरिन्ग क्योर सेन्टर के छात्रों की कहानी उनकी ज़ुबानी

 

  1. “मेरी सबसे बडी कमज़ोरी थी मेरी बोली। इस कोर्स को करने के बाद अब मेरी बोली ही मेरी सबसे बडी ताकत बन गई है।“
                                 कार्तिक टी. एन.             20 वर्ष वाइज़ैग  
  2. “पहले मेरी जल्दबाज़ी और हडबडाहट वाली बोली किसी को समझ मे नही आती थी पर अब मेरी साफ़ बोली सबको आसानी से समझ मे आती है।“
                                रुचिरा अरोरा 24 वर्ष दिल्ली  
  3. “मेरी हालत बहुत खराब थी। मैने हकलाहट के वजह से अपने माता-पिता और दोस्तों से भी बात करना बन्द कर दिया था। अब इस कोर्स की मदद से मै किसी से भी आत्म-विश्वासी होकर धाराप्रवाह बोल सकता हूँ।“
                                 जेफ़ फ़र्नान्डेज़ 19 वर्ष गोआ  
  4. “क्योंकि मै अपने काम से समय निकाल नही पा रहा था| मैने पहले पत्राचार कोर्स घर मे ही किया और मुझे अपने सुधार पर यकीन नही हो रहा था। इसके बाद मैने बैंगलोर मे रेगुलर कोर्स करके लाजवाब बोली हासिल कर ली है।“
                                 सैयद अफ़्ज़ल 29 वर्ष नासिक  
  5. “इस कोर्स मे मुझे इतने सारे लोगों के सामने माइक्रोफ़ोन पर बात करना सबसे बढिया लगा। इससे मेरा आत्मविश्वास बढ गया और मेरा सारा डर, घबराहट गायब हो गया।“
                                 वम्सी क्रष्णा 38 वर्ष हायदेराबाद  
  6. “मै इससे पहले जहाँ भी अपने हकलाहट के इलाज के लिए गया, मुझे सिर्फ़ सलाह ही मिले कि यह करें और यह न करें। सिर्फ़ स्टैमरिन्ग क्योर सेन्टर मे मुझे ठोस व सरल तकनीक मिलें जो सचमुच कारगर है। इस कोर्स मे हमे बस अभ्यासों को करना है और कुछ नही।“
                                 रोहित सिंग 25 वर्ष मोरादाबाद  
  7. “मेरी अंग्रेज़ी उतनी अच्छी नही थी पर सिर्फ़ 12 दिनों के कोर्स से ही मै अंग्रेज़ी मे भी विश्वस्त व धाराप्रवाह हो गया।“
                                 रोमिल गुप्ता 22 वर्ष लखनऊ  
  8. “मै पिछले 20 सालों से अमरीका मे काम कर रहा हूँ। बागची सर के अनोखे स्टाइल व तकनीकों से मै 5 दिनों मे ही प्रशंसनीय वक्ता बन गया हूँ। पता नही मै उन्हे क्या कहूँ "जादूगर", "देवता" या "बोली के भगवान"।“
                                शांतनु गुप्ता 47 वर्ष लॉस ऐन्जलस (अमेरिका)  
  9. “आज के ज़माने मे दूसरों के लिए शायद ही कोई बलिदान देता है, पर बागची सर ने तो मेरे जैसे हकलाहट-ग्रस्त लोगों के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया है। उनके इस निष्ठा और जस्बे को मेरा सलाम।“
                                 क्रिस्टफ़र लोबो 34 वर्ष मैन्गलोर  
  10. “पार्थ सर जैसे विनम्र व्यक्ति शायद ही कोई होगा जो विश्व भर मे इतना सम्मानित होने के बावजूद हमारी तरह आम रहना पसन्द करते है।“
                                मनेका पटेल 23 वर्ष मुम्बई  
  11. “यहाँ से ठीक होने के बाद, मै हमेशा दूसरों तक यह जानकारी पहुँचाने की कोशिश करता हूँ कि हकलाहट आसानी से स्टैमरिन्ग क्योर सेन्टर मे 12 दिनों मे ठीक हो सकती है। मैने भी सर के हकलाहट-मुक्त भारत के सपने मे योगदान करने की ठान ली है।“
                                 तथागत दत्ता 31 वर्ष कलकत्ता  
  12. “पहले हकलाहट के वक्त मेरा चेहरा पूरी तरह से विकृत हो जाता था पर अब मुझे इस सेन्टर और उनके अविश्वसनीय तकनीक के बदौलत ऎसी कोई असुविधा नही होती है।“
                               मोहम्मद इब्राहिम अहमेद 23 वर्ष पटना  
  13. “पार्थ सर तो रोज़ाना चमत्कार करते है जब वे हकलाहट जैसे भयानक अवस्था को आसानी से कुछ ही समय मे ठीक कर देते है, और वह भी बिना किसी दवाई या ऑपरेशन के। इस सेन्टर और पार्थ सर पर स्वयं ईश्वर की कृपा है।“
                                सैमुएल गोन्साल्वेज़ 44 वर्ष बैंगलोर  
  14. “पार्थ बागची जी तो हमारे लिए भगवान का वर्दान है, बिलकुल उनके गुरू स्वामी विवेकानन्द जैसे।“
                                सुहाशिश बार्देलय 30 वर्ष गुवाहाटी  
  15. “यहाँ आकर मैने आराम से, तनाव और घबराहट मुक्त होकर बोलना और रहना सीख लिया है। इस सेन्टर के स्टाइल ने मेरे ज़िन्दगी का स्टाइल ही बदल दिया है।“
                              अनंत झा 33 वर्ष राँची  
  16. “विज्ञापन मे यह पढकर कि हकलाहट सिर्फ़ दो हफ्तों मे ठीक हो सकती है, मैने सोचा कि यह कोई पाखंडी पैसे कमानेवाला संस्था होगा। सर और मॉम के हकलानेवाले लोगों के प्रति हमदर्दी और स्नेह देखने के बाद मै इस सेन्टर को अपना मंदिर मानता हूँ और उन्हे इस मंदिर का भगवान।“
                                पिनाकिन शाह 28 वर्ष अहमेदाबाद  
  17. “लोगों के मज़ाक उडाने से मेरी ज़िन्दगी भी एक मज़ाक बन कर रह गई थी। मै खुद से इतनी नफ़रत करने लगा था कि मैने कई बार आत्महत्या करने की कोशिश तक की। इस कोर्स से सचमुच मुझे एक नया जीवन दान मिला है। सर के प्रेरक शब्द मेरे जीवन मे आशा की किरण बन कर आए है। अब मै एक विश्वस्त और आशामय जीवन जी रहा हूँ, सिर्फ़ सर और इस कोर्स के बदौलत।“
                               रितेश शर्मा 26 वर्ष गुरगाऊँ  
  18. “चेन्नई वर्कशॉप के शुरू मे मैने सर से पूछा "मेरे 25 सालों की हकलाहट की समस्या सिर्फ़ 14 दिनों मे कैसे ठीक हो सकती है?" कोर्स के अंत मे मैने खुद सर से कहा "सर, 10 दिन भी काफ़ी है!"
                                पार्थसारथी वी. 50 वर्ष चेन्नई  
  19. “पहले मै लोगों से बात करने से बचने की कोशिश करता था पर अब मै खुद हर तरह के लोगों से मज़े लेकर बात करता हूँ।“
                               रोहन पई 24 वर्ष मैन्गलोर  
  20. “मै इस कोर्स मे मन मे बहुत सारे सवाल और शक लेकर आया था पर सर के प्रेरक शब्द सुनकर मेरी आधी हकलाहट तो उधर ही गायब हो गई थी।“
                                एच. के. सुन्दरम 25 वर्ष कोइमबटूर  
  21. “मैने उसे जन्म दिया होगा पर असल मे तो मेरे बच्चे को तो पार्थ बागची सर ने ज़िन्दगी दी है।“
                                अनिमेश अगरवाल 58 वर्ष बैन्गलोर  
  22. “मै विदेश मे डॉक्टरी पढते वक्त कई वेबसाइट व किताबें छान चुका था और हर नाकाम कोशिश कर चुका था। इस कोर्स से मानो मेरी हकलाहट गायब ही हो गई। यह तकनीक अवश्य विश्व के सर्वश्रेष्ठ तकनीक है।“
                                सुमित पांडे 24 वर्ष वारानसी  
  23. “सर के प्रेरक शब्द से मेरी हर नकारात्मक सोच सकारात्मक हो गई है।“
                               प्रतिक गोयल 30 वर्ष कैलिफ़ोर्निया (अमेरिका)  
  24. “मै स्टैमरिन्ग क्योर सेन्टर का शुक्रगुज़ार हूँ कि मै एक अच्छा धाराप्रवाह वक्ता बन पाया हूँ। यहा इतने सारे लोगों के साथ बात करके मेरा आत्मविश्वास और भी बढ गया है।“
                               पबित्र चौधरी 19 वर्ष कलकत्ता  
  25. “कई जगहों से ठगे जाने के बाद, मैने हकलाहट से मुक्ति पाने की उम्मीद ही छोड दी थी। मै जब स्टैमरिन्ग क्योर सेन्टरTM मे आया तो मुझे 90% विश्वास था कि इस कोर्स से भी कोई फ़ायदा नही होने वाला था, पर फ़िर भी मैने सोचा कि एक आखरी कोशिश करके देख लेते हूँ। मै ऊपरवाले का आभारी हूँ कि मैने यह जोखिम उठाया। मैने अपने बोली और आत्मविश्वास वापस पा ली है।“
                               जेकब मैथियू 40 वर्ष दुबई  
  26. “स्टैमरिन्ग क्योर सेन्टर के बताए गए स्टाइल मे बात करके तो मुझे हर तरफ़ से प्रशंसा ही प्रशंसा मिल रही है। लोग आश्चर्य हो जाते है कि मै इतना अच्छे स्टाइल मे कैसे बात कर सकता हूँ।“
                                परिचय साहनी 31 वर्ष अमृत्सर  
  27. “भगवान का लाख लाख शुकर है कि मुझे हकलाहट है क्योंकि इस कोर्स के ज़रिये ही मै पार्थ सर जैसे महान व्यक्ति से मिल पाया हूँ। अगर मै यह कोर्स नही करता तो अपनी ठीक-ठाक ज़िन्दगी से ही संतुष्ट रहता। इस कोर्स के वजह से मुझे अब हर वह सफलता मिल रही है जिस के बारे मे मै सोच भी नही सकता था।“
                               संजय पानिग्राही 27 वर्ष पूना  
  28. “इस कोर्स को करने से पहले मुझे पूरा यकीन था कि हकलाहट कभी भी ठीक नही हो सकता है। अब मुझे यकीन हो गया है कि पार्थ सर के छत्रछाया मे किसी का हकलाहट से ठीक न होना नामुमकिन है।“
                                जसपाल सिंग 22 वर्ष जम्मु  

OUR BLOGS - HANDPICKED FOR YOU

INFORMATION

Partha Bagchi – Tips on How to control your EXCITEMENT?

Read More
TECHNIQUES

STRUGGLING WITH STUCKNESS IN STAMMERING BY PARTHA BAGCHI

Read More
COURSES

PARTHA BAGCHI – TOP 10 TIPS TO REMOVE NEGATIVE THOUGHTS

Read More
BENEFITS

HOW STAMMERING DEVELOPS AND COMPLICATES

Read More

Media

Gallery

Quick Contact

No. 583, 12th A Cross, 8th Main, 2nd Phase
J.P. Nagar, Bangalore - 560078, India
Landmark : Near Delmia Circle

 +91-80-2658 8204, +91-80-2658 7204

 +91 98860 60037, +91 98801 26010

 parthabagchiscc@gmail.com